Bachchon ki nabhi ka pakna


1 min read
08 Apr
08Apr

घरेलू उपचार :-

# : नाभि को नीम के पानी से धोकर उस पर नीम की छाल घिसकर लगाएं।

# : चिकनी सुपारी पानी में घिसकर दिन में तीन-चार बार लगाएं।

# : हलदी को देसी घी में मिलाकर नाभि पर लगाएं।

# : लौंग का तेल तिल्ली के तेल में मिलाकर लगाने से काफी लाभ होता है।

होम्योपैथिक चिकित्सा:-

कैलेंडूला : 100 ग्राम तिल्ली (तिल) के तेल में 10 बूंदे कैलेंडूला मिलाकर रूई से टूंडी (नाभी) पर लगाएं।

आर्सेनिक : यदि टूंडी पक गई हो और पीप-मवाद (पस) आने लगी हो तो आर्सेनिक दें।

बेलाडोना : सूजन तथा दर्द की हालत में बेलाडोना दें।


Natura Right Health Care.
Natural A1 - दुवारा दी जाने वाले उपचारों कि जानकारीया आपको पसंद आती है और आप नेचुरा राइट हेल्थ केयर को कुछ धन राशि सहयोग के रूप में देना चाहते हो तो वह सहयोग राशि दे सकते हो।
धन्यवाद।
मूल्य-5, 10, 50, 100, 200, 500, 1000

Pay Now